कहीं आपका स्मार्ट फोन आंखों को बर्बाद तो नहीं कर रहा हैॽ | Mobile radiation can damage your eyes

by | Apr 25, 2019 | Eye Problem | 0 comments

क्या कहकर इतराते हैं हम लोग कि हम 21वीं सदी के बाशिंदे हैं। साइंस और तकनीक के अनुपम प्रयोगों को हमने आत्मसाध किया है। अब स्मार्ट फोन को ही ले लीजिये। क्या-क्या चमत्कारी नहीं छिपा हुआ है इसके भीतरॽ एक मिनट क्या हुआ पढ़ते-पढ़ते आंखों में दर्द हो गयाॽ हो सकता है आपकी आंखों में दर्द का कारण मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) हो। आइये जानते हैं कि मोबाइल फोन किस तरह का असर डालते हैं आपकी आंखों परॽ

वैसे तो आंखों की समस्या (Eye Problems) के बहुत सारे कारण होते हैं। लेकिन हाल के कुछ सालों में स्मार्ट फोन ने आंखों की जो दुर्दशा की है वह पहले कभी नहीं हुई। आंखों की बीमारियों का बढ़ता ग्राफ वाकई चिंताजनक बात है। वैसे तो मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) के बुरे प्रभाव सिर्फ आंखों तक सीमित नहीं हैं। लेकिन इसका सबसे ज़्यादा असर आंखों पर ही होता है।

पहले का समय कही बेहतर

ज़रा याद कीजिये वह समय जब न मोबाइल हुआ करते थे न स्मार्ट फोन। कितना सुकून था इंसान की ज़िन्दगी में। क्या तब हम ज़्यादा खुश नहीं रहते थेॽ आपने देखा ही होगा कि हमारी दादी, नानी किस तरह से बिना चश्मे के सिलाई-कढ़ाई किया करती थी। जैसे कोई अदृश्य लेंस लगा हो उनकी आंखों में। तब आंखों की समस्या (Eye Problems) नहीं हुआ करती थी। लोगों के पास एक-दूसरे के लिए समय होता था। मिलकर साथ बैठते, ठहाके लगाते और महफ़िलें गुलज़ार करते। कम से कम अपने लिए तो समय होता था लोगों के पास। अब तो वह समय भी मोबाइल की भेंट चढ़ चुका है।

मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) से होने वाले स्वास्थ्य दुष्प्रभाव

• चिड़चिड़ापन बढ़ना

जब आप समय पर सोयेंगे नहीं, सही तरह से खाना नहीं खायेंगे तो चिड़चिड़ापन बढ़ना तो स्वाभाविक है। शरीर भी एक समयावधि से बंधा हुआ है। जब हम उस समयावधि का पालन नहीं करते हैं तो शरीर अपनी प्रतिक्रिया तो देता ही है।

• सिरदर्द की समस्या

लगातार स्मार्ट फोन से चिपके रहने से आंखों की समस्या के अलावा सिरदर्द की परेशानी भी बढ़ जाती है। मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) के कारण सिरदर्द के अलावा दिमाग से जुड़ी दूसरी समस्याएं भी हो जाती हैं।

• शरीर में दर्द

दिन-भर अपने मोबाइल से चिपके रहने से शरीर की अकड़न होना तो मामूली बात है। झुककर अपने स्मार्ट फोन में आंखें गढ़ाए रहने से गर्दन दर्द, कंधे का दर्द और हाथों में दर्द तो होगा ही। एक ही पोज़ीशन में लेटे रहना या बैठे रहना तो आजकल युवाओं की आदत बन चुका है।

• इन्फेक्शन

क्या आपको पता है कि मोबाइल की स्क्रीन पर कितने कीटाणु होते हैं। अब जब वह कीटाणु हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं तो कितनी बीमारियां फैलाते हैंॽ

• भ्रम पैदा होना

बहुत बार लोगों को लगता है कि उनका मोबाइल बज रहा है। लेकिन वास्तव में ऐसा नहीं होता है। क्या आपके साथ भी ऐसा ही होता हैॽ अगर हां तो आपको नोमोफोबिया नामक बीमारी हो चुकी है। बहुत अधिक मोबाइल देखने से इस तरह की समस्या हो सकती है। भ्रम की यह स्थिति स्वास्थ्य के लिए अच्छी नहीं है।

मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) से होने वाली अन्य समस्याएं

हम लोगों को मोबाइल की ऐसी आदत लग चुकी है कि इसके बिना खाना भी गले से नहीं उतरता है। क्या आप जानते हैं कि मोबाइल टॉवर के ज़्यादा सम्पर्क में रहना भी खतरनाक हो सकता है। मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) के कारण आपको डिप्रेशन, सुनने में कमी, अनियमित धड़कन और ब्रेन ट्यूमर जैसी बीमारियां भी हो सकती हैं। यहां तक कि इससे आपकी प्रजनन क्षमता भी प्रभावित हो सकती है। आंखों की तकलीफों (Eye Problems) के बारे में तो हम पहले ही बात कर चुके हैं।

आंखों की समस्या (Eye Problems)

स्मार्ट फोन की रोशनी आंखों पर सबसे बुरा असर करती है। मोबाइल रेडिएशन (Mobile Radiation) के कारण आंखों की रेटिना पर सबसे ज़्यादा असर होता है। आपने तो देखा ही होगा कि कितने छोटे-छोटे बच्चों की आंखों में चश्मा लग रहा है। पढ़ने की वजह से नहीं बल्कि मोबाइल पर गेम खेलने के कारण। क्या यह हमारे भविष्य के लिए एक अच्छा संकेत हैॽ बिलकुल नहीं, लेकिन लोगों में स्मार्ट फोन को लेकर जो दीवानगी बढ़ चुकी है उसका क्या किया जायेॽ आपको पता है तेज़ रोशनी के कारण आपकी आंखों के तंतु सिकुड़ जाते हैं। इससे आंखों पर बुरा असर होता है। स्थिति इतनी खराब हो सकती है कि आंखों की रोशनी भी जा सकती है।

कैसे रहे दूर इस लत सेॽ

आंखों की समस्याओं (Eye Problems) को दूर करने के लिए आप फोन के उपयोग के समय निर्धारित कर लें। थोड़ी देर में स्क्रीन को बंद करके आंखों की एक्सरसाइज़ शुरू कर दें। थोड़ी देर बाहर घूमकर आयें। सही समय पर सो जाएं। इससे आपकी आंखों को सुकून मिलेगा। इस तरह से आप अपने बच्चों के लिए भी मोबाइल पर खेलने का समय बांध दीजिये। जिससे उनकी भी आंखों की रोशनी सलामत रहे।

स्मार्ट फोन के दुष्प्रभाव पर आधारित यह पोस्ट आपको अच्छी लगी हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें। आई प्रॉब्लम से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ A-Z सेक्शन को देखना न भूलें।