खुद को सुरक्षित रखिये, पब्लिक टॉयलेट्स यूज़ करते समय

by | Feb 21, 2020 | Hygiene, Self Care | 0 comments

हाइजीन का हमारे जीवन में क्या महत्व है? ये बात तभी समझ में आती है जब हम बीमार होते हैं। जी हां बिना कोई तकलीफ हुए हमे किसी परिस्थिति का भान नहीं होता है। हमे पता ही नहीं चलता है और कई बार हमारी छोटी-सी गलती हम पर ही भारी पड़ जाती है। क्या आप अपनी उन गलतियों के बारे में सोचने लगे हैं? चलिए कोई बात नहीं, लेकिन आपकी थोड़ी भी सतर्कता आपको अनेक परेशानियों से बचा सकती है। जैसे हम बात करें पब्लिक टॉयलेट्स के इस्तेमाल की। देखिये ये तो एक सच्चाई है कि प्राकृतिक आवेगों (नेचरल कॉल्स) को रोकना अच्छी बात नहीं होती है। लेकिन कई बार कुछ ऐसी परिस्थिति बन जाती है कि हमारी यही आदत हमारे जी का जंजाल बन जाती है। खासकर महिलाओं को यूटीआई जैसी समस्या इसी कारण से होती है। इसके अलावा पब्लिक टॉयलेट के यूज़ करने से आपको यीस्ट इन्फेक्शन और स्किन इन्फेक्शन की समस्या भी हो सकती है। बैक्टीरियल इन्फेक्शन का कारण भी गंदे पब्लिक टॉयलेट्स हो सकते हैं। आइये इस बारे में विस्तार से आपको जानकारी देते हैं।

सुविधा के लिए बनाये जाते हैं पब्लिक टॉयलेट्स

जी हां पब्लिक टॉयलेट्स के निर्माण का एकमात्र कारण यही होता है कि आम लोगों को सुविधा बनी रहे। लेकिन ये तभी उपयोगी होते हैं जब इनकी स्वच्छता भी बनी रहे। गंदे पब्लिक टॉयलेट्स को इस्तेमाल करने से आपको लाभ भले न हो लेकिन हानि होना निश्चिंत है। यदि आपको ऐसा लगता है कि जिस पब्लिक टॉयलेट को आप प्रयोग कर रहे हैं, वह साफ़ नहीं है तो बेहतर है आप उसका इस्तेमाल न करें।

हर व्यक्ति की ज़िम्मेदारी है पब्लिक टॉयलेट्स को साफ़ रखना

जब कोई भी व्यक्ति पब्लिक टॉयलेट्स का प्रयोग करता है तो ज़रूरी है वो उसकी सफाई का भी ध्यान रखे। एक भी व्यक्ति जब अपनी ज़िम्मेदारी नहीं निभाता है तो उसका खामियाज़ा दूसरों को भी उठाना पड़ता है। इसलिए ज़रूरी है कि आप जब भी सार्वजनिक शौचालय का इस्तेमाल करें, उसकी स्वच्छता का ध्यान रखें। इससे आप खुद भी और दूसरे लोग भी बीमारियों से बचे रहते हैं।

महिलाओं को अधिक होती है यूटीआई की समस्या

ये देखने में आता है कि यूटीआई की समस्या महिलाओं को अधिक होती है। संभव है कि इसका कारण गंदे पब्लिक टॉयलेट का यूज़ करना हो। जी हां आपको हम बता दें कि महिलाओं के निजी अंगों की संरचना कुछ इस तरह होती है कि वो किसी भी इन्फेक्शन का शिकार आसानी से हो जाती हैं। यही कारण है कि यूटीआई भी उन्हें बहुत जल्दी अपनी गिरफ्त में ले सकता है। इसलिए महिलाओं को पब्लिक टॉयलेट्स के इस्तेमाल में बहुत सावधानी रखना चाहिए।

यीस्ट इन्फेक्शन का कारण भी बनता है सार्वजनिक शौचालय

जैसे पब्लिक टॉयलेट्स के प्रयोग से यूटीआई की स्थिति बनती है वैसे ये यीस्ट इन्फेक्शन का कारण भी हो सकता है। किसी एक महिला को यीस्ट इन्फेक्शन हुआ है और वो पब्लिक टॉयलेट का प्रयोग करती है। संभव है की दूसरी महिलाओं को भी यीस्ट इन्फेक्शन की समस्या हो जाये। इसलिए आप पूरी सतर्कता के साथ इसे इस्तेमाल करें।

स्किन इन्फेक्शन भी हो सकता है पब्लिक टॉयलेट्स के इस्तेमाल से

बात केवल यहीं पर खत्म नहीं होती है। पब्लिक टॉयलेट्स का यूज़ करने से आपको स्किन इन्फेक्शन भी हो सकता है। देखा जाता है कि टॉयलेट शीट पर बहुत सारे बैक्टीरिया होते हैं। ये बैक्टीरिया स्किन इन्फेक्शन का कारण बन सकते हैं। अगर वॉशरूम को अच्छे से साफ़ नहीं किया जाता तो ये स्किन इन्फेक्शन आपको भी हो सकता है। कई बार लोग समझ ही नहीं पाते कि उन्हें समस्या आखिर हुई कहां से?

बैक्टीरियल इन्फेक्शन से बचने के लिए साफ़ टॉयलेट का प्रयोग करें

अगर आप किसी भी तरह के बैक्टीरियल इन्फेक्शन से बचना चाहते हैं तो ज़रूरी है आप साफ़ टॉयलेट का प्रयोग करें। क्योंकि एक बार आपको बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो जाता है तो फिर उसे ठीक होने में बहुत वक्त लगता है।

तो आप भी पब्लिक टॉयलेट्स के प्रयोग को लेकर सावधानी रखें और सतर्कता से इसे इस्तेमाल करें।

पब्लिक टॉयलेट्स के उपयोग पर आधारित ये जानकारी आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

हाइजीन से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए आप हमारा हेल्थ A-Z और सेल्फ केयर सेक्शन ज़रूर विज़िट करें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के हेल्थ सेक्शन को विज़िट करना न भूलें।