ध्यान से! कहीं मोबाइल का अधिक इस्तेमाल बन न जाये इनफर्टिलिटी का कारणॽ

by | Dec 3, 2019 | Infertility, Self Care | 0 comments

सेल्फ केयर के लिए आप कुछ चीज़ों पर तो ध्यान देते हैं पर कुछ पर बिलकुल नहीं। लेकिन आपको हर उस बात पर गौर करना चाहिए जो आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती है। जैसे आपकी कुछ आदतें। अब आप खुद देखिये कि इनफर्टिलिटी की समस्या इन दिनों कितनी बढ़ती जा रही है। चाहे महिला हो या पुरुष सभी में सामान रूप से ये स्थिति देखी जा रही है। लेकिन क्या आप इसका कारण जानते हैंॽ हर इनफर्टिलिटी का कारण तो नहीं, लेकिन फिर भी मोबाइल इनफर्टिलिटी का एक बड़ा कारण हो सकता है। क्योंकि इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन के कारण अनेक तरह की समस्याएं महिलाओं और पुरुषों को हो सकती हैं। लेकिन इस बारे में जानकारी न होने के कारण लोग इस ओर ध्यान नहीं देते हैं। इसका खमियाज़ा एक बड़ी समस्या के रूप में उठाना पड़ता है। पुरुषों में इस कारण स्पर्म काउंट प्रभावित होते हैं। वहीं महिलाओं में ओव्यूलेशन में भी परेशानी आती है। इस कारण गर्भधारण करने में भी बहुत समस्याएं होती हैं। आइये इस विषय में हम आपको विस्तार से जानकारी देते हैं।

इनफर्टिलिटी बन गई है बड़ी समस्या

वैसे तो इनफर्टिलिटी के बहुत सारे कारण होते हैं। लेकिन मोबाइल की वजह से भी इनफर्टिलिटी की समस्या बहुत बढ़ रही है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इन दिनों बहुत-से युवा जोड़े आईवीएफ तकनीक का सहारा ले रहे हैं। जी हां माता-पिता बनना भी अब इतना आसान नहीं रहा। अगर इस ओर ध्यान नहीं दिया गया तो इनफर्टिलिटी की परेशानी एक व्यापक रूप ले सकती है।

लाइफस्टाइल भी है इनफर्टिलिटी का कारण

जी हां आपकी लाइफस्टाइल भी इनफर्टिलिटी का कारण हो सकती है। जंक फ़ूड, अनियमित दिनचर्या, गलत आदतें ये सब कहीं न कहीं इनफर्टिलिटी के लिए ज़िम्मेदार हैं। जब व्यक्ति को इस संबंध में परेशानी आती है तब ही उसकी नींद खुलती है। इसलिए बेहतर है कि आप अपनी लाइफस्टाइल को सुधार लें।

मोबाइल से संभव हैं अनेक बीमारियां

अब तो मोबाइल एक आदत बन चुका है। क्या बच्चे, क्या बड़े सभी को मोबाइल की आदत हो चुकी है। लेकिन कोई भी इसके खतरनाक परिणामों को नहीं जानता है। मोबाइल की आदत आपको कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी भी दे सकती है। जी हां चौकिए नहीं, ये बात बिलकुल सही है। फिर तो संभव है कि मोबाइल से इनफर्टिलिटी की समस्या भी हो जाये। इसलिए इसके इस्तेमाल को लेकर सावधानी रखिये।

महिलाओं में ओव्यूलेशन संबंधी परेशानी हो सकती है

कई महिलाओं को समस्या होती है कि उनका ओव्यूलेशन मतलब अण्डोत्सर्ग सही समय पर नहीं होता। ओव्यूलेशन से जुड़ी ये समस्या उन्हें गर्भधारण करने से वंचित कर सकती है। ये समस्या आजकल कम उम्र की महिलाओं में देखी जा रही है। कंसीव करने के लिए ओव्यूलेशन का सही समय पर होना बहुत ज़रूरी है। इसलिए आपको इस संदर्भ में ख़ास मोबाइल के प्रयोग को लेकर सावधानी रखना चाहिए।

पुरुषों में कम हो रहा है स्पर्म काउंट

आपको बता दें कि पुरुषों में स्पर्म काउंट कम होने का कारण मोबाइल का अधिक इस्तेमाल भी हो सकता है। स्पर्म काउंट कम होने से फर्टिलिटी पर बुरा असर होता है। इसलिए आपको सोचकर मोबाइल का इस्तेमाल करना चाहिए। स्पर्म काउंट को बढ़ाने के लिए डॉक्टर की सलाह लेना भी उचित है।

इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन बनता है इनफर्टिलिटी का मुख्य कारण

मोबाइल में पाई जाने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन इनफर्टिलिटी के लिए ज़िम्मेदार हो सकती हैं। इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन मानव शरीर पर बहुत बुरा प्रभाव डालती हैं। इससे अनेक तरह की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है। इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडिएशन से बचने के लिए सिर्फ मोबाइल ही नहीं बल्कि कंप्यूटर, लैपटॉप आदि का प्रयोग भी सावधानी से करना चाहिए। इन चीज़ों से आप जितनी दूरी रखेंगे उतना अच्छा होगा।

मोबाइल के बुरे प्रभाव पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

इनफर्टिलिटी से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ A-Z और सेल्फ केयर सेक्शन को ज़रूर देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के हेल्थ सेक्शन को ज़रूर विज़िट करें।