अचानक हुए पैनिक अटैक के समय क्या करें आप?

by | Feb 26, 2020 | Mental Disorder, Self Care | 0 comments

मेंटल डिसऑर्डर आजकल लोगों में आम समस्या हो गई है। क्योंकि हर कोई किसी न किसी वजह से परेशान है। लोगों में तनाव इतना ज़्यादा बढ़ चुका है कि वो साधारण जीवन जी ही नहीं पा रहे हैं। इसी वजह से अक्सर लोगों को पैनिक अटैक की समस्या हो जाती है। इस विषय के बारे में तो आपने ज़रूर सुना होगा। लेकिन इसके बारे में आप ज़्यादा सोचना नहीं चाहते होंगे। सही भी है अगर आपके जीवन में किसी तरह का तनाव नहीं है तो ऐसी चीज़ों के बारे में क्यों सोचना। वैसे मेंटल स्ट्रेस बढ़ने के भी बहुत सारे कारण हैं। हो सकता है आपका तनाव वर्क प्रेशर के कारण बढ़ रहा हो। या ये भी हो सकता है कि आप रिलेशनशिप प्रॉब्लम्स से जूंझ रहे हों। किसी डिज़ीज़ के कारण भी आपको समस्या हो सकती है। अब कारण कोई भी क्यों न हो ज़रूरी है आपके तनाव को कम करना। इसके लिए आपको पैनिक अटैक ट्रीटमेंट के बारे में जानकारी लेनी होगी। लेकिन हां ये ज़रूर है कि आप इस समस्या से आसानी से निकल सकते हैं। आइये हम आपको इस बारे में जानकारी दें।

क्या है पैनिक अटैक?

आपको बता दें कि पैनिक अटैक का संबंध डर या एंज़ायटी से जुड़ा होता है। जब आपका तनाव हद से पार हो जाता है तो संभव है आपको पैनिक अटैक हो जाये। इस परिस्थिति में आपको बहुत तेज़ घबराहट होती है। व्यक्ति का स्वास्थ्य इसकी वजह से गिरने लगता है। इसका असर उसके काम पर भी होता है और पैनिक अटैक ट्रीटमेंट न होने पर स्थिति बिगड़ती जाती है।

किस तरह के लक्षण सामने आते हैं पैनिक अटैक में?

वैसे तो पैनिक अटैक के लक्षणों को समझना बहुत आसान होता है। लेकिन ज़रूरी है कि इस समय आप अधिक सतर्कता रखें। पैनिक अटैक आने पर बहुत अधिक घबराहट और बैचेनी बढ़ जाती है। दिल की धडकनें भी सामान्य गति से बहुत अधिक बढ़ जाती हैं। सांस लेने में मुश्किल होने लगती है, ऐसा लगता है मानो कोई गला दबा रहा हो। गले में जकड़न महसूस होती है। सीने में दर्द महसूस होने लगता है। ऐसा लगता है आप अभी मर जायेंगे या इसी तरह का एक अनजाना डर सताने लगता है। पूरे शरीर में कंपन होने लगता है और बेहद पसीना आता है। बेहोशी आने लगती है और जि मचलाने लगता है। यदि आप भी ऐसा कुछ महसूस करते हों तो समझ जाइये ये पैनिक अटैक है। लेकिन इस समय घबराने की बजाय एकदम शांत रहिये। इससे आपको सामान्य होने में मदद मिलेगी।

मेंटल स्ट्रेस को खुद पर हावी न होने दें

जब भी आपके साथ इस तरह का कुछ होता है आप शांत रहकर उसे ठीक कर सकते हैं। अब आप ही बताइए आज के समय ऐसा कौन है जिसे मेंटल स्ट्रेस नहीं होता है। सभी समस्याओं से गुज़रते हुए जीना तो इंसान की फितरत में शामिल है। मेंटल स्ट्रेस को होने से तो नहीं रोका जा सकता है। लेकिन हां मेंटल स्ट्रेस को खुद पर हावी होने से रोका का सकता है।

वर्क प्रेशर भी बढ़ाता है पैनिक अटैक की स्थिति को

आज की भागती-दौड़ती ज़िंदगी में हर व्यक्ति वर्क प्रेशर के नीचे दबा हुआ है। नौकरी में वर्क प्रेशर का होना कोई असामान्य बात नहीं है। काम का बढ़ता बोझ हर व्यक्ति को अपनी गिरफ्त में ले ही लेता है। वर्क प्रेशर को दूर करने के लिए आप अनेक चीज़ों का सहारा ले सकते हैं। जैसे अपने काम को अच्छे से संयोजित करें। सहयोगियों के साथ अच्छे संबंध बनाये रखें। काम को टेंशन लेकर नहीं बल्कि शांति से पूरा करें। इस तरह आपको कोई स्ट्रेस भी नहीं होगा और आपका कम भी अच्छे से होगा।

रिलेशनशिप प्रॉब्लम्स के कारण भी हो सकती है पैनिक अटैक की स्थिति

अगर आपके पारिवारिक संबंधों में किसी तरह की कोई समस्या है तो इससे भी स्ट्रेस की स्थिति बनती है। ये आगे जाकर पैनिक अटैक में बदल जाती है। ये आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप इस अवस्था को आने ही न दें। अपने संबंधों को हर समय सुलझाकर रखें। अगर कोई परेशानी आ भी रही है तो समझदारी से उसे सुलझाने का प्रयास करें।

इस तरह से करें पैनिक अटैक ट्रीटमेंट

किसी व्यक्ति को जब भी पैनिक अटैक आता है तो सबसे पहले उसे ज़मीन पर लेटा दें। फिर उसके कपड़ों को ढीला कर दें। पैनिक अटैक ट्रीटमेंट में डीप ब्रीद सबसे अहम होती है। जब शरीर और दिमाग को सही तरह से ऑक्सीजन मिलती है तो वह समान्य होता है। इसके अलावा पैनिक अटैक ट्रीटमेंट में व्यक्ति को प्रेम और समझदारी से शांत करने का प्रयास करें। प्रभावित व्यक्ति को पानी दें और धीरे-धीरे पीने को कहें। अगर फिर भी समस्या ठीक न हो तो डॉक्टर से सम्पर्क करें।

तो इस तरह जब भी किसी को पैनिक अटैक हो तो बिना घबराये उसे समझदारी से हैंडल करें। पैनिक अटैक पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

मेंटल डिसऑर्डर से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ A-Z और सेल्फ केयर सेक्शन को ज़रूर देखें। इसके अलावा स्वास्थ्य से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के हेल्थ सेक्शन को भी ज़रूर विज़िट करें।