न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ में ये ड्रग करती हैं इस तरह असर

by | Jun 23, 2020 | Neurological Disease, Self Care | 0 comments

न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ आजकल तेज़ी से अपने पैर पसार रही है। इसके कारण कम उम्र में ही लोग बड़ी परेशानियों से गुज़रते हैं। नर्वस सिस्टम से जुड़ी बीमारियों का इलाज नहीं है ऐसी बात नहीं है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इनके लिए जो ड्रग्स इस्तेमाल में आती हैं वो आपके लिए कुछ साइड इफ़ेक्ट भी पैदा कर सकती हैं। इसलिए किसी भी तरह की थेरेपी लेने से बेहतर आप कम से कम 2-3 डॉक्टर्स को कंसल्ट करें। किसी भी बीमारी के इलाज के लिए दी गई औषधि बीमारी से राहत पाने का अचूक तरीका होती है। इन दवाइयों के सेवन को लेकर सामान्य सावधानी तो रखनी आवश्यक है ही। हर बीमारी के लिए दी गई दवाई को लेकर भी अलग से सतर्क रहना ज़रूरी है। जैसे न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर्स या बीमारियों के लिए दी जा रही दवाइयों के मामले में। इस बारे में अधिक जानकारी दे रहे हैं इंदौर के प्रसिद्ध न्यूरोसर्जन डॉक्टर आवेग भंडारी।

यह होती है स्थिति न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ में

न्यूरोलॉजिकल डिजीज़ या समस्याएं ऐसी स्थिति है जो दिमाग की तंत्रिकाओं (ब्रेन की नर्व्स) तथा रीढ़ की हड्डी (स्पाइनल कॉर्ड) पर बुरा असर डालती है। दुनिया-भर में बड़े पैमाने पर लोग इन समस्याओं के शिकार होते हैं। ये समस्याएं अधिकांशतः उम्र बढ़ने के साथ सामने आती हैं लेकिन कई अन्य स्थितियों में कम उम्र में भी इनका असर हो सकता है। ऐसे में दवाओं के साथ ही अन्य थैरेपी भी मददगार हो सकती हैं। इन समस्याओं में अल्ज़ाइमर्स, पार्किंसंस तथा मल्टीपल स्क्लेरोसिस आदि शामिल हैं।

न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ में आवश्यक है दवाइयों का प्रबंधन

सबसे पहली बात यह यही कि मरीज़ के परिजन या देखभाल करने वाले डॉक्टर से विस्तार से चर्चा करें। क्योंकि इन समस्यायों की वजह से जरूरी नहीं कि वे अपनी देखभाल खुद कर सकें। ऐसे में उनकी शारीरिक स्थिति क्या है, क्या वे पहले से कोई दवाई ले रहे हैं, क्या उनके परिवार कोई बीमारी अनुवांशिक तौर पर स्थित है, उनकी दिनचर्या और डाइट किस प्रकार की है या क्या कोई दवाई शुरू होने के बाद उनको कोई समस्या दे रही है? ये वे सारे सवाल हैं जिनके जवाब जानना आवश्यक हैं। साथ ही डॉक्टर से अन्य थैरेपी को लेकर भी जानकारी लें, जैसे फिजियोथैरेपी, म्यूजिक थैरेपी या आर्ट से जुड़े अन्य माध्यम। इसके बाद दवाइयों को किस समय पर, कैसे और कब कब देना है यह जानें और इसे कहीं लिखकर रखें। न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ में आपको ये सब बातें ध्यान रखना चाहिए।

ऐसे काम करती हैं ड्रग्स

इन समस्याओं के कारण याददाश्त में दिक्कत होने के साथ ही नॉशिया, कमजोरी, सरदर्द, फटिग, दौरे पड़ना, बोलने में समस्या, बुखार, खांसी, सीने में दर्द आदि जैसे लक्षण उभरते हैं। इनके लिए न्यूरोलॉजिस्ट नियंत्रण हेतु ज़रुरी ड्रग्स देते हैं। ये ड्रग्स बीमारी के अनुसार अलग-अलग तरह से काम करती हैं। जैसे न्यूरोपैथी के अंतर्गत नसों का प्रवाह बढ़ाकर, दिमाग के थक्के (लकवे) के मामले में खून पतला करके, साइटिका में नसों पर दबाव कम करके या बोटॉक्स द्वारा नसों का तनाव कम करके, आदि। ये ड्रग्स लम्बे समय तक लेनी पड़ती हैं और हर अन्य दवा की तरह इनके भी साइड इफेक्ट्स हो सकते हैं। इसलिए इनके बारे में डॉक्टर से पूरी जानकारी जरूर लें।

नर्वस सिस्टम को मैडिटेशन का साथ दें

जी हां आपका नर्वस सिस्टम मज़बूत बनाने के लिए आप मैडिटेशन करें और साथ ही एक्सरसाइज़ भी। नर्वस सिस्टम के लिए घूमना और दौड़ना भी बहुत ज़रुरी है। साथ ही आप किसी तरह का तनाव न लें और संतुलित दिनचर्या जियें।

न्यूरोलॉजिकल थेरेपी में जाने ये खास बातें

तंत्रिका तंत्र के लिए उपयोग होने वाली हर थेरेपी की सही जानकारी लें। सही थेरेपी के इस्तेमाल से आपको काफी लाभ हो सकता है। फिर चाहे आप म्यूजिक थेरेपी अपनाएं या कोई और थेरेपी।

• कई बार मरीज़ बिना जाने-समझे अपनी मर्जी से किसी दवाई की दुकान या ऑनलाइन सामान्य दवाएं या सप्लीमेंट्स खरीदते हैं। ये दवाएं भी न्यूरो दवाओं से रिएक्शन कर सकती हैं।

• बिना न्यूरोलॉजिस्ट की जानकारी / सलाह के कोई दवा न लें। चाहे उस दवा से पूर्व में आपके परिचित को फायदा ही क्यों न हुआ हो।

• कई न्यूरो दवाओं का समय निश्चित होता है जैसे रक्त का गाढ़ापन कम करने की दवा शाम को लेते हैं, थक्का तोड़ने की दवा दोपहर को लेते हैं, मिर्गी की दवा हर दिन एक निश्चित समय पर ली जाती है और नसों के तनाव को दूर करने वाली दवा रात में ली जाती है। इन सभी बातों का ध्यान अवश्य रखें।

न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

न्यूरोलॉजिकल डिज़ीज़ से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ A-Z और सेल्फ केयर सेक्शन को देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के हेल्थ सेक्शन को ज़रुर विज़िट करें।

Dr. Aaveg Bhandari

Dr. Aaveg Bhandari

Neurosurgeon, Indore