प्रोटीन की कमी प्रेग्नेंसी में पैदा कर सकती है समस्या, इन चीजों को करें इस्तेमाल

by | Sep 24, 2020 | Pregnancy & Parenting | 0 comments

प्रेग्नेंसी एंड पेरेंटिंग में आज हम बात करने वाले हैं प्रेग्नेंसी के दौरान ली जाने वाली प्रोटीन डाइट के बारे में। जी हां विशेषज्ञों का भी मानना है कि गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन का पर्याप्त उपभोग एक महिला के लिए बहुत आवश्यक होता है। यह आगे जाकर ना केवल महिला की सेहत बल्कि होने वाले बच्चे की सेहत पर भी बहुत बड़ा प्रभाव डालता है। लेकिन क्योंकि बहुत-सी महिलाओं को प्रोटीन के फायदों के बारे में पता नहीं होता तो वह इसे अपनी डाइट में शामिल नहीं कर पातीं। और फिर उन्हें अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। आपको करना कुछ खास नहीं है बस डॉक्टर की बताई सलाह के अलावा अपने खान-पान में प्रोटीन के अलावा और भी उपयोगी चीज़ों को शामिल करना है। इसके अलावा एक तनाव मुक्त जीवन जीकर आप अपनी पूरी गर्भावस्था को सरल और सुरक्षित तरीके से बिता सकती हैं। होने वाली मां को यह जानकारी ही नहीं होती कि किस चीज़ की कमी उसके शरीर में किस प्रकार से समस्याएं पैदा कर रही हैं। एक आश्चर्य की बात यह भी है कि बहुत-सी परेशानियां तो महिला के खान-पान यानी कि उसकी डाइट से ही जुड़ी होती हैं। सही डाइट का ना होना न केवल शारीरिक रूप से बल्कि मानसिक रूप से भी अनेक समस्याओं को पैदा करता है। हम आपको बता दें कि बनाना यानी कि केला ना केवल पोटेशियम बल्कि प्रोटीन का भी बहुत अच्छा सोर्स होता है। इसी तरह से ब्रोकली और अन्य पत्तेदार सब्जियां भी आपकी थाली में ज़रूर होना चाहिए। चलिए हम बताते हैं कि प्रोटीन के और स्त्रोत कौन-कौन से हैं। जिन्हें आप गर्भावस्था के दौरान उपयोग कर सकती हैं।

प्रेग्नेंसी से जुड़ी परेशानियों से मिलती है राहत

जैसा कि हमने कहा कि महिला के लिए प्रेगनेंसी के दौरान प्रोटीन डाइट का लेना बहुत ज़रूरी है। वैसे तो और भी ऐसे पोषक तत्व हैं जो गर्भावस्था के दौरान लिए जाने आवश्यक होते हैं। लेकिन प्रोटीन डाइट से प्रेगनेंसी के दौरान होने वाली बहुत-सी समस्याओं से महिला को आराम मिलता है। जैसे आप मॉर्निंग सिकनेस की समस्या ले लीजिए। या फिर पाचन से जुड़ी कोई समस्या हो तो भी प्रेगनेंसी में प्रोटीन डाइट बहुत मदद करती है। हां यह बात ज़रूर है कि यदि महिला को प्रोटीन से किसी तरह की कोई एलर्जी है और डॉक्टर ने उसे प्रोटीन लेने से मना किया है तो फिर उसे वही करना चाहिए जो उसके और बच्चे के लिए सही हो।

संतुलित भोजन लेना चाहिए प्रेग्नेंसी में

एक बात ज़रूर है कि प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को कुछ चटपटा, कुछ मज़ेदार खाने का मन करता है। यह भी देखा जाता है कि कई बार तो महिला रात में उठकर कुछ खाने की फरमाइश कर देती है। कभी कुछ मीठा तो कभी कुछ तीखा और कभी कुछ मसालेदार। खैर यह तो एक दूसरा पक्ष है लेकिन सच्चाई यही है कि प्रेगनेंसी के दौरान महिला को संतुलित भोजन ही लेना चाहिए। यह उसके और बच्चे दोनों की सेहत के लिए बहुत आवश्यक होता है। हमारे देश में कुपोषण और महिलाओं में पाए जाने वाली खून की कमी की समस्या बहुतायत से देखने को मिलती है। इन सब के पीछे एक ही कारण है आपका अधूरा पोषण। इसलिए आवश्यक है कि आप अपनी पूरी गर्भावस्था के दौरान संतुलित भोजन करती रहें। दाल, चावल, सब्जी, रोटी, सलाद, फल, सूखे मेवे सेहत के लिए बेहद लाभकारी होते हैं। इसलिए डॉक्टर की सलाह के अलावा कोशिश करें कि आप बाहर की चीजें ज़्यादा ना खाएं।

थर्ड ट्राइमेस्टर से शुरू करें प्रोटीन डाइट

यह बात आपके मन में ज़रूर आती होगी कि गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन डाइट कब से लेना शुरू करें। सामान्य रूप से गर्भावस्था के तीसरे महीने से प्रोटीन डाइट को लेना शुरू कर देना चाहिए। वैसे अगर आप पूरी गर्भावस्था के दौरान भी प्रोटीन का सेवन करते हैं तो उससे कोई समस्या नहीं होती। लेकिन कोशिश करें कि प्रोटीन सप्लीमेंट लेने से बेहतर है कि प्राकृतिक रूप से लिए जाने वाले प्रोटीन पर ज्यादा ध्यान दें। प्रोटीन महिला के गर्भाशय के ऊतकों का विकास करता है। साथ ही यह होने वाले बच्चे की हड्डियों और मांसपेशियों के विकास में भी अहम भूमिका निभाता है।

रोज़ एक बनाना ज़रूर लें

यदि हम बात करें केले की तो आपको प्रेगनेंसी के दौरान बनाना ज़रूर लेना चाहिए। वैसे बनाना लेने का कोई खास समय नहीं है। आप इसे सुबह के नाश्ते में, दोपहर में या रात में भी ले सकती हैं। बनाना में अन्य पोषक तत्वों के साथ प्रोटीन भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इसके साथ ही यह काफी ऊर्जा भी प्रदान करता है। सेब, चीकू, पपीता के अलावा आपको बनाना भी फ्रूट में ज़रूर शामिल करना चाहिए। और यह भी बेहतर होगा कि आप फलों के रस के बजाय फलों का सेवन ही करें। क्योंकि इससे फाइबर के फायदे भी आपको मिलेंगे।

ब्रोकली भी है फायदेमंद

अपने आहार में प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए आप ब्रोकली का सेवन भी कर सकती हैं। जी हां ब्रोकली एक बहुत ही महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ है। आमतौर पर लोग ब्रोकली को सलाद के रूप में खाते हैं। मगर आप चाहें तो इसे सब्जी में भी डालकर खा सकती हैं। सामान्य रूप से ब्रोकली एक एग्जॉटिक वेजिटेबल है। जो कि विदेशों में बहुतायत से पाया और खाया भी जाता है। समझ लीजिए कि ब्रोकली फूलगोभी की एक प्रजाति है। लेकिन इसका स्वाद फूलगोभी से काफी अलग होता है।

तो अगर आप भी जल्द ही मां बनने वाली हैं तो प्रोटीन का सेवन जल्द डॉक्टर से पूछकर शुरू कर सकती हैं।

गर्भावस्था में प्रोटीन के सेवन और उसके लाभ से जुड़ा यह लेख आपको पसंद आया हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखिए और पोस्ट को रेटिंग देना ना भूलें।

इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए हमारे प्रेगनेंसी एंड पेरेंटिंग सेक्शन को देखें। इसी तरह पेरेंटिंग से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के लव एंड लाइफ सेक्शन को विज़िट करना ना भूलें।