प्रेग्नेंसी में इस तरह दूर की जा सकती है पैरों की सूजन

by | Jul 24, 2020 | Pregnancy & Parenting | 0 comments

प्रेग्नेंसी एंड पैरेंटिंग के अंतर्गत आज हम बात करेंगे सूजन के बारे में। शरीर में और पैरों में आने वाली सूजन जो प्रेग्नेंसी में एक आम बात है, किस तरह ठीक की जा सकती है। वैसे महिलाएं इसे लेकर बहुत बेफिक्र होती है। लेकिन कई बार पैरों पर होने वाली सूजन आपको लंबे समय तक परेशान कर सकती है। इसका कारण आपका बॉडी पॉस्चर भी हो सकता है। जैसे बहुत देर तक पैर लटकाकर बैठना या बहुत समय तक खड़े रहना पैरों में सूजन बढ़ा सकता है। इसके अलावा आपको सूजन में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही हो तो डॉक्टर से संपर्क करने में न हिचकिचाएं। एक्सरसाइज़ से भी आप पैरों की सूजन कम कर सकती हैं। आइये इस बारे में और जानकारी आपको दें।

समय के साथ बढ़ती है पैरों की सूजन

जैसे-जैसे प्रेग्नेंसी का समय बढ़ता जाता है पैरों में सूजन भी बढ़ती है। इसका कारण पेट मे पल रहे शिशु का बढ़ना है। इसके अलावा गर्भावस्था में वैसे भी वज़न बढ़ता है। अगर पैरों में सिर्फ सूजन है तो कोई डर की बात नहीं। बच्चे के जन्म लेने के कुछ समय बाद वो अपने आप खत्म हो जाती है। लेकिन यदि सूजन के साथ पैरों में दर्द भी हो रहा हो तो डॉक्टर की सलाह लेना सही होता है।

वेरिकोज़ वेन्स से जुड़ी हो सकती है सूजन की समस्या

देखिये सम्भव है कि प्रेग्नेंसी के दौरान आपको वेरिकोज़ वेन्स की समस्या हो जाये। क्योंकि इस समय वेट बढ़ने से सारा वज़न पैरों पर आता है। इससे सूजन आती है और सम्भव है कि आपके पैरों की नसें दबने लग जाएं। इस अवस्था में वेरिकोज़ वेन्स होना कोई बड़ी बात नहीं। इसलिए प्रेग्नेंसी में आपको वज़न को ज़्यादा बढ़ने नहीं देना है। वैसे भी ज़्यादा वेट आपको ढेर सारी दूसरी बीमारियां दे सकता है। इस समय पौष्टिक भोजन और व्यायाम बहुत आवश्यक होता है। इससे आपका वजन भी बहुत नहीं बढ़ता।

प्रेग्नेंसी में वैस्क्युलर सर्जन से पैरों की जांच करवाएं

जब आप ये देखें कि आपको सूजन में कोई फायदा नहीं हो रहा और समस्या बढ़ रही है तो वैस्क्युलर सर्जन को दिखाना सही होता है। इस तरह के विशेषज्ञ नसों से जुड़ी समस्याओं का उपचार करते हैं। अगर आपको प्रेग्नेंसी में इस तरह की कोई समस्या हुई है तो उसका पता चल जाता है और समय पर इलाज भी मिल जाता है। वर्ना आगे जाकर आपकी समस्या बड़ा रूप ले सकती है। अगर आप पैरों में होने वाली सूजन के लिए कुछ दवाएं लेती हैं तो इससे गर्भस्थ शिशु को नुकसान भी हो सकता है। इसलिए इस तरह की स्थिति पैदा ही न होने दें।

रेग्युलर एक्सरसाइज़ से दूर हो सकती है आपकी समस्या

यदि आप प्रेग्नेंसी में रोज़ एक्सरसाइज़ करती हैं तो आपको पैरों में सूजन नहीं होगी। और यदि हो भी गई तो जल्दी ठीक हो जाएगी। एक्सरसाइज़ में आपको कुछ हल्के व्यायाम ही करने चाहिए। जिससे आपके पैरों में रक्त संचार ठीक रहे। इससे स्वेलिंग नहीं आती है। एक्सरसाइज़ किसी एक्सपर्ट से पूछकर ही करें।

बॉडी पॉस्चर सही रखें

जैसे आप दूसरे और तीसरे ट्राइमेस्टर में बढ़ती जाती हैं आपको बॉडी पॉस्चर को सही रखना शुरू कर देना चाहिए। हमने पहले भी कहा आपका बॉडी पॉस्चर जैसे अधिक समय तक खड़े रहना या बैठना तकलीफ दे सकता है। आपको एक जैसे बॉडी पॉस्चर से थोड़ा ब्रेक लेना चाहिए। बीच में अपनी पोजीशन बदलते रहना चाहिए। इससे किसी एक जगह दवाब नहीं बनता और आपको सूजन जैसी समस्या भी नहीं होती।

तो इन तरीकों से आप भी पैरों की सूजन से बची रह सकती हैं।

प्रेग्नेंसी में पैरों की सूजन को दूर करने के तरीकों पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए हमारे प्रेग्नेंसी एंड पैरेंटिंग सेक्शन को ज़रूर देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के पैरेंटिंग सेक्शन को विज़िट करना न भूलें।