दर्दनाक हो सकता है बढ़ता यूरिक एसिड

by | Aug 14, 2019 | Bone Problems, Self Care | 0 comments

व्यस्तता के इस दौर में बोन्स प्रॉब्लम्स बढ़ती जा रही हैं। आजकल कई ऐसी बीमारियां हमारे सामने आने लगी हैं जिनका हमने कभी नाम भी नहीं सुना है। मगर आप मत घबराइए हम आपको सारी बीमारियों के बारे में और उनके इलाज के बारे में भी बतायेंगे। क्या आपने कभी यूरिक एसिड के बारे में सुना है? अगर नहीं तो कोई बात नहीं आज इसी विषय पर चर्चा होगी। यूरिक एसिड हमारे शरीर में बनता है मगर इसकी मात्रा बढ़ जाने से कई सारी दिक्कतें पैदा हो सकती हैं। गाउट की समस्या भी इसी से पैदा होती है। इसे नज़रअंदाज़ करना बड़ा खतरनाक हो सकता है। इसमें सही डाइट को फॉलो करना बहुत ज़रूरी है। इससे जुड़ी समस्या आने पर हम सलाह देंगे कि आप डॉक्टर के पास जाएं। आज हम आपको कुछ होम रेमेडीज़ भी बतायेंगे जिससे आप यूरिक एसिड की मात्रा को कंट्रोल कर पाएंगे। आइये इसके बारे में विस्तार से जानते हैं।

क्या है यूरिक एसिडॽ

यूरिक एसिड एक प्रकार का रसायन है। अब आप सोच रहे होंगे कि यह हमारे शरीर में कहां से आता है? यूरिक एसिड कही बाहर से नहीं आता बल्कि हमारी बॉडी में ही बनता है। अच्छा रुकिये हम ठीक से समझाते हैं। जब बॉडी प्युरीन नामक पदार्थ को तोड़ती है तो यूरिक एसिड बनता है। वैसे तो इसके रहते शरीर में कोई खतरा नहीं है। मगर जब यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है तो फिर यह समस्या उत्पन्न होने लगती है। इसी लिए आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से समझा रहे हैं। तो अब यह भी देख लिया जाए कि कैसे इसकी मात्रा बढ़ जाती है।

कैसे बढ़ती है यूरिक एसिड की मात्रा ॽ

यूरिक एसिड किस तरह से हमारी बॉडी में बनता है, आप यह तो जान ही चुके हैं। तो अब आपको इसकी मात्रा के बढ़ने का कारण जल्दी समझ आ जाएगा। जब हमारी बॉडी प्युरिन को ब्रेक करती है तब यूरिक एसिड बनता है। इसका मतलब यदि ज़्यादा प्युरिन रहा तो ज़्यादा यूरिक एसिड बनेगा। वैसे तो अक्सर ज़्यादा यूरिक एसिड हमारी बॉडी से यूरिन के ज़रिये बाहर निकल जाता है। मगर कई बार यह हमारी बॉडी में क्रिस्टल के रूप में जम जाता है। इसी कारण समस्या शुरू होती है।

गाउट की समस्या कर देता है पैदा

गठिया यानि गाउट एक बुरे सपने की तरह है। इसमें जोड़ों में असहनीय दर्द होता है। मगर सवाल उठता है कि आखिर यह बीमारी हो कैसे जाती हैॽ इसका दोष भी बढ़ते यूरिक एसिड लेवल पर ही जाता है।

जब यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है तब यह समस्या पैदा होती है। बढ़ता यूरिक एसिड नुकीले क्रिस्टल का रूप ले लेता है फिर जोड़ों में जाकर दर्द उत्पन्न करता है। इसी कारण से होने वाले दर्द को गाउट कहते हैं।

डॉक्टर की सलाह जरूर लें

हम अधिकतर कई सारी बीमारियों को यूं ही नज़रंदाज़ कर देते हैं। मगर हमारा आप से निवेदन रहेगा कि कभी बढ़ते यूरिक एसिड को नज़रंदाज़ ना करियेगा। यदि आपको जोड़ों में अजीब-सी चुभन और दर्द महसूस हो तो तुरंत ही डॉक्टर के पास जाईये। ऐसी समस्या पर ध्यान ना देना इसे और बढ़ा देता है। इसलिए यूरिक एसिड की जांच नियमित रूप से करवाते रहना चाहिये। ख़ासकर हमारे बुज़ुर्ग पाठकों को। यदि जांच में इसकी मात्रा बहुत ज़्यादा बढ़ी हुई ना आए तो आप होम रेमेडीज़ भी इस्तेमाल कर सकते हैं। तो चलिये अब आपको होम रेमेडीज़ की क्लास में लेकर चलते हैं।

कुछ होम रेमेडिज़

हम अक्सर कोशिश करते हैं कि घर में ही समस्या का समाधान हो जाए तो बेहतर है। इसलिए हमने सोचा क्यों न आपको इससे जुड़ी कुछ होम रेमेडीज़ बता दें।

• बढ़ता वज़न भी इस समस्या का कारण बन सकता है। इसीलिए डॉक्टर्स सलाह देते हैं कि आप वज़न कंट्रोल करके रखें।
• ज़्यादा प्युरिन रिच फ़ूड खाने से भी यह समस्या पैदा हो जाती है। तो हम आपको सजेस्ट करेंगे कि आप ज़्यादा प्युरिन वाली चीज़ों से दूरी बना लें।
• ज़्यादा अल्कोहल और शुगर भी इस समस्या को बढ़ावा देती है। इसलिए आप शुगर और अल्कोहल दोनों का ही सेवन कम करें।

कैसी होनी चाहियें डाइट

अच्छी डाइट कितनी ही बड़ी बीमारी को ख़त्म कर देती है। तो हम अब आपको यूरिक एसिड को कंट्रोल करने के लिए डाइट भी बता ही देते हैं। देखिये एक सिंपल-सा रूल है जितनी कम प्युरिन वाली डाइट उतने बचे रहेंगे आप इस समस्या से। तो अब कुछ लो प्युरिन फ़ूड पर नज़र डाल लेते हैं जैसे-

• कॉफ़ी
• सभी प्रकार के फ्रूट और ज्यूस
• अंडा और मूंगफली के दाने
• राइस, ब्रेड और पॉपकॉर्न

आप गोभी, पालक और मशरूम को छोड़ कर सभी सब्जियों का सेवन कर सकते हैं। तो अब अपना ख्याल रखिये और हमसे यूं ही हंसते और मुस्कराते हुए जुड़े रहिये।

यूरिक एसिड से जुड़ी समस्या पर आधारित ये पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

बोन प्रॉब्लम्स से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ A-Z और सेल्फ केयर सेक्शन को ज़रूर देखें। इसी तरह की अन्य जानकारी के लिए वामा टुडे के हेल्थ सेक्शन को विज़िट करना मत भूलियेगा।