कोरोना के कहर से बचने के लिए उठाइये ये रक्षात्मक कदम

by | Mar 25, 2020 | Contagious Diseases, Self Care | 0 comments

कॉनटेजियस डिज़ीज़ पहले कभी इतनी डरावनी नहीं लगी, जितनी आज नज़र आ रही है। वैश्विक रूप से जिस तेज़ी से कोरोना वायरस का प्रसार हुआ है, वो वाकई बड़ी चिंता का विषय बन गया है। कोरोना वायरस से दुनिया एक बड़े आतंक में जी रही है। लेकिन लोगों से यही आग्रह है कि घबराने की बजाय जागरूक बनें सेल्फ आइसोलेशन से बढ़कर और कोई कोई तरीका नहीं जो आपको इस बीमारी से बचा सके। कोरोना सिम्पटम्स को सही समय पर पहचानना बहुत ज़रुरी है। हैंड वॉश की आदत और हाइजीन को बनाये रखना बहुत ज़रुरी है। इस बारे में अधिक जानकारी दे रहे हैं डॉक्टर योगेश अग्रवाल जो आदित्य मेमोरियल हॉस्पिटल पुणे में बतौर कंसलटेंट कार्यरत हैं।

वैश्विक संकट के रूप में सामने आया है कोरोना

यकीन मानें आज से कुछ महीनों पहले आपने कुछ ऐसा सोचा होगा? कोरोना नाम की ये बीमारी कैसे पूरी दुनिया को खतरे में डाल सकती है। कोरोना का संक्रमण चीन से शुरु हुआ और फिर धीरे-धीरे पूरी दुनिया में फैला। आज लगभग विश्व के आधे देश इसकी चपेट में हैं।खतरा बड़ा है, लेकिन इससे डरने की भी ज़रुरत नहीं है। बस कुछ सावधानियां ध्यान रखकर आप कोरोना से बचे रह सकते हैं।

किस तरह से फैलता है कोरोना का वायरस?

परिवर्तनशील आकार के कोरोना वायरस अंतराल से या प्रकोप के रूप में अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन का कारण बनते हैं साथ ही ऐसे व्यस्क जिन्हे फेफड़ों की बीमारी हो या बुज़ुर्ग व्यक्ति वायरस के कारण सीवियर रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन का शिकार होते हैं। रोगसूचक होने के कारण यह 80% मामलों में मामूली किस्म होती है। ये वायरस गंभीर बीमारी का कारण हो सकते हैं, लेकिन हर व्यक्ति में नहीं। वर्तमान परिस्थितियों में यदि आप श्वसन संबंधी किसी समस्या से आप जूंझ रहे हैं तो बजाय बाहरी लोगों सम्पर्क में आये बिना जल्द से जल्द किसी विशेषज्ञ से सलाह लेना उचित होता है।

कोरोना वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक तभी पहुंचता है जब वो करीबी सम्पर्क बढ़ाते हैं। किसी संक्रमित सतह को छूने भर से भी ये बीमारी हो सकती है। इस संक्रमण से ग्रसित कोई व्यक्ति जब खांसता या छींकता है तो इससे कुछ ड्रॉप्लेट्स रिलीज़ होते हैं। ये इन्फेक्टेड ड्रॉप्लेट्स पास खड़े व्यक्ति तक या इस संक्रमण से बीमारी रोगी के हाथों द्वारा करीबी सम्पर्क में आने वाले व्यक्ति तक संचारित हो सकती है। क्योंकि ये ड्रॉप्लेट्स संक्रमित होती हैं इसलिए जहां भी ये गिरती हैं उस जगह को छूने से भी संक्रमण फ़ैल सकता है।

हाइजीन का ध्यान रखना बहुत ज़रुरी है

कोरोना और कुछ सिखाये न सिखाये हाइजीन की आदत ज़रुर डाल देगा। ये ज़रुरी भी है कि हाइजीन रखने से आप केवल कोरोना से नहीं बल्कि अनेक बीमारियों से बच सकते हैं। हाइजीन की कमी आपको इस बीमारी से काफी हद तक बचा सकती है। इसलिए आप अभी से आदत डाल लीजिये।

ज़रुरी है सेल्फ आइसोलेशन

ये बहुत आवश्यक है कि आप इस दौरान सेल्फ आइसोलेशन का पालन करें। आइसोलेशन में रहकर आप अपने साथ दूसरों को भी सुरक्षित रख सकते हैं। आजकल हर व्यक्ति इसी तरह से आइसोलेशन में रहकर खुद को सुरक्षित रखने की कोशिश कर रहा है। यही सही तरीका भी है।

हैंड वॉश करते रहें

आप घर में रहते हुए भी हैंड वॉश ज़रुर करें। हैंड वॉश आपको कम से कम २० सेकंड तक करना चाहिए। आजकल हैंड वॉश के जो तरीके बताये जा रहे हैं, उन पर भी अमल ज़रुर करें।

ऐसे पहचान करें कोरोना सिम्पटम्स की

जी हां साधारण सर्दी-ज़ुकाम और कोरोना सिम्पटम्स में अंतर है। कोरोना सिम्पटम्स में खास रूप से बहती नाक, बुखार, गले का इन्फेक्शन और सांस लेने में समस्या देखी जाती है। इसलिए जिस भी व्यक्ति में कोरोना सिम्पटम्स दिखाई दे तो तुरंत स्वास्थ्य विभाग से सम्पर्क करें।

ये बहुत ज़रुरी है कि इन महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विचार किया जाये :

सबसे बड़ा प्रयास अपने हाथों को साफ़ रखना है, इसलिए अपने हाथों को २० सेकंड तक पानी और साबुन से साफ़ करें।

• खांसते और छींकते समय अपने मुंह को अच्छे से कवर कर लें।
• भीड़ वाले स्थानों पर जाने, कहीं अनावश्यक यात्रा करने या समूह में एकत्रित होने से बचें।
• कच्चा या बिना पका भोजन करने से परहेज़ करें।
• बीमार लोगों के सम्पर्क में आने से बचें।
• कोशिश करें कि आप अपने मुंह, नाक, आंख और चेहरे पर गंदे हाथ न लगाएं, हाथों को साफ़ करने के लिए सैनेटाइजर का उपयोग करें। 
• श्वसन तंत्र से जुड़ी किसी भी समस्या पर तुरंत सूचित करें।
• स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें और अपने आस-पास सफाई बनाये रखें।
• सीडीसी द्वारा बताई गयी गाइडलाइन का पालन करें।
• यदि आप बीमार हैं तो मास्क का प्रयोग करें या किसी बीमार को विज़िट करते समय मास्क का प्रयोग आवश्यक है।

कोरोना वायरस से जुड़ी ये जानकारी आपको पसंद आयी हो तो इसे शेयर करें। कमेंट सेक्शन में अपने विचार लिखें और पोस्ट को रेटिंग देना न भूलें।

कॉनटेजियस डिज़ीज़ से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए हमारे हेल्थ A-Z सेक्शन को ज़रुर देखें। इसी तरह की जानकारी के लिए वामा टुडे के हेल्थ सेक्शन को विज़िट करना न भूलें।